Monday, October 19, 2015

90 मीनापुर विधानसभा चुनाव क्षेत्र

कौशलेन्द्र झा, मीनापुर से...
आईये, बात 90 मीनापुर विधानसभा चुनाव क्षेत्र की करतें हैं। भाजपा से विधायक पुत्र अजय कुमार और राजद से बहुचर्चित मुन्ना यादव के नामांकन पत्र दाखिल करने के साथ ही यहां की राजनीति में तपिस महसूस होने लगा है। एक एक करके मुद्दे पीछे छूटने लगें हैं और फिर वही पुरानी समीकरण लोगो के सिर चढ़ने लगा है। बदली हुई हालात में दरकता समीकरण और भीतरघातियों की अनदेखी फौज...। यही वह फैक्टर है, जो यहां की राजनीति की दिशा को तय कर देगा।
इस फैक्टर को समझने के लिए वर्ष 2010 के विधानसभा चुनाव परिणाम को देखना लाजमी होगा। उस वक्त जदयू के दिनेश प्रसाद 42,286 मत बटोर कर चुनाव जीते थे। वहीं, पुरी ताकत झोंकने के बाद भी राजद के मुन्ना यादव को 36,884 मतो से ही संतोष करना पड़ा था। दरअसल,  इसी गणित के भीतर मीनापुर का भविष्य छिपा है। यादव और अल्पसंख्यक मतो के अतिरिक्त इस चुनाव में कुर्मी मतो का मजबूत धु्रवीकरण राजद के साथ खड़ा है। दुसरी ओर अगड़ी जाति, वैश्य, मांझी, पासवान और कुशवाहा जाति का बड़ा वर्ग एनडीए की कतार में खड़ा होकर मुकाबला को रोचक बना दिया है।
अब सभी की नजर ईबीसी मतो पर टिका है। गत चुनाव में कॉग्रेस के सकलदेव सहनी को 15,346 मत मिले थे। बड़ा सवाल ये है कि क्या यह वोट सन ऑफ मल्लाह के संस्थापक मुकेश सहनी के कहने पर भाजपा में जायेगा या राजद इसमें सेंधमारी करने में सफल हो जायेगा? सकलोपा के उपेन्द्र सहनी और जन अधिकार पार्टी के केदार सहनी की नजर भी इसी वोट पर है। कहतें हैं कि यही वह गणित है, जो यहां का परिणाम तय करने वाला है।
इसके अतिरिक्त गत विस चुनाव में बसपा क ी टीकट से उप प्रमुख रंजन कुमार सिंह ने 6,766 मत हासिल किया था। इसमें अधिकांश मत रविदास का था। रविदास समाज एक बार फिर से बसपा और राजद के बीच की दुविधा में फंसी हुई दीख रही है। इस बीच भाजपा के संजीव कुमार कुशवाहा के नामांकन वापस लेने के बाद देखना दिलचस्प हो गया है कि श्री कुशवाहा की माताजी माधवी चन्द क ो 2010 के चुनाव में मिला 4,898 मतो का लाभ भाजपा को मिलेगा क्या? इसी प्रकार गत चुनाव में भाकपा प्रत्याशी जयनारायण प्रसाद को मात्र 4,156 मतो से संतोष करना पड़ा था। इस बार भाकपा की टीकट से प्रो. लक्ष्मीकांत अपना किस्मत आजमा रहें हैं।
दुसरी ओर एनसीपी के जयमंगल चौधरी को मिला 2,352 मत, निर्दलीय गोपाल प्रसाद को मिला 1,687 मत और निर्दलीय जीतेन्द्र प्रसाद को मिला 1,069 मतो की जबरदस्त नुकसान के बावजूद भी जदयू के दिनेश प्रसाद ने 2010 में जीत दर्ज करा दिया था। इस बार समीकरण बदला हुआ है। गत विस चुनाव में जद एस की टीकट पर 2,298 मत बटोर कर राजद को झटका देने वाले रामउदेश राय इस बार गजद का टिकट लौटा दिया है। जाहिर है कि इसका लाभ राजद उम्मीदवार मुन्ना यादव को मिल सकता हैं।
इस सब के बीच यहां चौथा चरण में एक नवम्बर को इस विधानसभा की 35 पंचायत के 238 मतदान केन्द्रों पर 2,49,678 मतदाता अपने प्रतिनिधि का चुनाव करेंगे।। बदले हुए समीकरण में मध्य मीनापुर की तीन पंचायत और पश्चिम के एक पंचायत में जदयू समर्थक भाजपा का खेल बिगाड़ने में लगे हैं। वही, ईबीसी का एनडीए की ओर रुझान महागठबंधन का सिर दर्द बन जायें तो आश्चर्य नही होगा। फिलहाल मुकावला कांटे का है और इंतजार आठ नवम्बर का...।

No comments:

Post a Comment